dokdo

मटेरियल केंद्र

Dokdo, Beautiful Island of Korea

राष्ट्रीय स्वतन्त्रता के बाद दोक्दो पर विशेषाधिकार

home > मटेरियल केंद्र > दोक्दो, कोरियन प्रायद्वीप में जापानी अधिक्रमण का पहला शिकार > राष्ट्रीय स्वतन्त्रता के बाद दोक्दो पर विशेषाधिकार

print facebook twitter Pin it Post to Tumblr

हानसोंग इल्बो

उल्लुंग्दो वैज्ञानिक अभियान रिपोर्ट (2), हाँग जोंग-इन के द्वारा, 『हानसोंग इल्बो』 (सितम्बर 24, 1947)

〔अनूदित लेख〕

उल्लुंग्दो वैज्ञानिक अभियान रिपोर्ट (2), हाँग जोंग-इन के द्वारा

अभियान के दौरान हम सभी खुश हैं कि पूरा अभियान अच्छा चला, हमारे सोच से भी अच्छा रहा । यह या तो इसलिए हुआ कि उपर वाले का हाथ हमारे उपर था और मौसम भी साफ़ और शान्त था हमारे अभियान के दौरान या फिर यह टीम के सदस्यों का दृढ़ संकल्प था अपने काम के प्रति । या फिर यह इसलिए हुआ क्योंकि टीम के सभी सदस्य दृढ़-संकल्पित थे अपने काम के प्रति । आतंरिक विभाग के सुरक्षा बल अपने गश्ती ढल के सहयोग से महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और कर्मियों सुविधाजनक रूप से भरी मात्रा में सामान पहुँचाते हैं इसलिए हम तारीफ करते हैं ।
इस तरह कि परियोजनाएँ काफी कठिन होती हैं और सरकारी या पब्लिक आर्गेनाइजेशन के सहारे से । इस तरह कि योजनाएँ सरकारी या जन संगठन के सहयोग के बिना चलाना कठिन होता है । विशेष रूप से गश्ती ढल का पूर्ण सहयोग अभियान के लिये काफी मददगार साबित हुआ । लगभग सभी उल्लुंग्दो निवासियों ने हमारा दिल खोलकर स्वागत किया, हम XXX के साथ पूरा सहयोग कर रहे थे और अस्थायी निवास की व्यवस्था कर रहे थे । इस प्रकार अभियान अपने समाप्ति की ओर बढ़ चला । वहाँ के निवासियों द्वारा दिया गया स्नेह हम कभी नहीं भूलेंगे और हम वहाँ के लोकल नेताओं और द्वीप के मुखिया के हार्दिक स्वागत को भी नहीं भूलेंगे । XXX अभियान दल का यात्रा कार्यक्रम निम्नांकित था :
▶ अगस्त 16: व्याख्यान इकाई अग्रिम दल के तौर पर सुबह में रवाना हो गई और मुख्य दल दोपहर में ।
▶ अगस्त 17: डाएगु में रुके । शिक्षा महाविद्यालय में ग्योंगबुक शिक्षण संघ के तत्वावधान में एक व्याख्यान आयोजित किया ।
▶ अगस्त 18: पोहांग से सुबह 7 बजे रवाना हुए और उल्लुंग्दो के बन्दरगाह दोदोंग शाम 6 बजे पहुँचे ।
▶ अगस्त 19: आराम किया । राहत सामग्री बाँटी, दोपहर में भाषण हुआ और रात को स्वागत पार्टी में सम्मिलित हुए ।
▶ अगस्त 20: सुबह पाँच बजे दोक्दो के लिए रवाना हुए, सुबह 9.40 को पहुँचे और वापस जदोंग रात के 8 बजे के आसपास पहुँच गये ।
▶ अगस्त 21: मेडिकल यूनिट को छोड़कर सारी यूनिट को, सोंगइनबोंग जो कि द्वीप की सबसे ऊँची पहाड़ी है, दो टीमों में बाँट दिया गया । 983.6 मीटर की ऊँचाई से टीम A को दक्षिण-पूर्व की तरफ उतर कर नामयांग-दोंगमें ठहरा और टीम B को उत्तर-पूर्व की तरफ उतर करनारी-दोंगमें ठहरा।
▶ अगस्त 22: टीम A नामयांग-दोंग से रवाना किया गया औरदैहा में ठहरा, टीम B नारी-दोंगसे रवाना किया और छोनबु-दोंग के रास्ते होते हुए हाइयेन्पो पहुँचा और ठहरा ।
▶ अगस्त 23: टीम A दैहा से चला गया हाइयेन्पो के रास्ते होते हुए छोनबु-दोंग पहुँचा और ठहरा । टीम B हाइयेन्पो से चला दैहा के रास्ते होते हुए नामयांग-दोंग में रुका ।
▶ अगस्त 24: दोपहर में सभी जियो-दोंग में मिले ।
▶ इस दौरान मेडिकल यूनिट ने दो दिन जियो-दोंग में बिताये, दो दिन छोनबु-दोंग और एक दिन नारी-दोंग में बिताये । मेडिकल टीम ने निवासियों का मुफ्त उपचार किया और शोध किया । वे भी सोंगइनबोंग पर चढ़े और वापस जियो-दोंग लौट आये ।
▶ अगस्त 25: आराम किया, जमा किये गये चीजों को व्यवस्थित किया, एक विशेष व्याख्यान प्रस्तुत किया गया था सुबह उसान माध्यमिक स्कूल में ।
▶ अगस्त 26: जियो-दोंग से सुबह 9:30 बजे रवाना हुए पोहांग में रात को 10:30 बजे पहुँचे और वहाँ रात भर रुके ।
▶ अगस्त 27: पोहांग से दो पार्टीयों के लिए रवाना हुए सुबह में और दोपहर में दैगु होते हुए सफ़र किया ।
▶ अगस्त 28: मुख्य पार्टी सुबह सीओल में पहुँची । हमने तय किया था कि टीम अस्थायी निवास के निमंत्रण को मान लेगा और ठहरने के दौरान सारे खर्च को वहन करेगा । मुख्य भूमि तक सीमित पहुँच हो पाने के कारण उल्लुंग्दो में खाने-पीने और जरूरत कि चीजों का अभाव है । हमने XXX के सभी आपूर्ति बहार से करने पर रोक लगाए जिसमें खाना का सामान भी शामिल था सिवाय द्वीप पर जो सामान उत्पादित होते थे उसको बाहर भेजने के ।

〔मूल लेख〕

Original Text