dokdo

मटेरियल केंद्र

Dokdo, Beautiful Island of Korea

दोकदो पर कोरियन साम्राज्य का क्षेत्राधिकार

home > मटेरियल केंद्र > दोक्दो, कोरियन प्रायद्वीप में जापानी अधिक्रमण का पहला शिकार > दोकदो पर कोरियन साम्राज्य का क्षेत्राधिकार

print facebook twitter Pin it Post to Tumblr
  • 1
  • 2
  • 3

जोसोन या ओयीजोंगबु राज्य परिषद् की चायिका

जोसोन या ओयीजोंगबु राज्य परिषद् की चायिका (अक्टूबर 22, 1900)

〔अनूदित लेख〕

उल्लुंग्दो राष्ट्र, जो मुख्य भाग से काफी दूर पूर्व सागर में स्थित है, कि 504 वें स्थापना वर्ष में निवासियों और प्रशासकीय मामलों की रक्षा के लिए एक प्रशासक (“दोगाम”) को नियुक्त की गई । उल्लुंग्दो प्रशासक बाई ज्ञे-जू और ऊ योंग-जियोंग निरीक्षण दस्तावेज और दोंगरे आय अधिकारी ने खुलासा किया, “इसका चौड़ाई 80 ली(माप की पुरानी कोरियाई ईकाई) और विस्तार 50 ली(19.6 कि.मी.) लंबी है । यह चारों ओर से तीव्र ढलान वाले पर्वतों से घिरी हुई है और इसके केन्द्र में उत्तर से दक्षिण तक विशाल पर्वत फैला हुआ है । इसके बीच से विशाल धारा निकलती है जो जहाजों के लिए पर्याप्त गहरा है । यहाँ की मिट्टी उपजाऊ है, और यहाँ के लोग सीधे-सादे है । लोग यहाँ पर कई दशकों से अपना जीवनयापन करते रहे हैं । यहाँ 400 से अधिक घर नहीं हैं, और यहाँ लगभग 10,000 दुराक(कृषियुक्त खेती की कोरियाई नाप) में खेती होती है । यहाँ प्रतिवर्ष 20,000 बोरा/थैले आलू, 20,000 थैले जौ, 10,000 बोरा बीन और 20,000 बोरे गेहूँ उपजाया जाता है ।

यहाँ किसी भी सामान्य पहाड़ी गाँवों की तुलना में कम घर, खेती, और कम फसल होती है मगर यहाँ बहुत बड़ा अंतर नहीं दिखता । विदेशी व्यापार के लिए इस द्वीप पर आते हैं, मगर यहाँ उचित प्रशासन व्यवस्था नहीं है । इसके मद्देनज़र, मेरी मान्यता है कि इसका नाम उल्लुंग्दो से उल्दो रखा जाय और शहर के प्रशासक(दोगाम) को क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट(गुनसु) बनाया जाय और इस हेतु दरबार में सुनवाई हेतु एक बैठक का प्रस्ताव देता हूँ ।

ग्वाँगमू के चौथा वर्ष (अक्टूबर 22, 1900)

यी गोन-हा, छानजोंग(Chanjeong) राज्य परिषद् और आतंरिक मामलों के मंत्री

माननीय युन योंग-सोन, प्रधानमंत्री राज्य परिषद् द्वारा समीक्षा हेतु
शाही नियम संख्या 41
उल्लुंग्दो का नामकरण उल्दो में एवं प्रशासक (“दोगाम”) की शहरी मजिस्ट्रेट / क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट में पदोन्नति (“गुनसु”) अनुच्छेद 1. उल्लुंग्दो का नाम बदलकर उल्दो होगा जो गांगवन-दो (गांगवन प्रांत) के अधिकार क्षेत्र में होगा । प्रशासक को क्षेत्रीय मजिस्ट्रेट के रूप में अधिकारी तंत्र में पदोन्नति दी जाएगी और क्षेत्र पाँचवें स्तर का क्षेत्र होगा ।
अनुच्छेद 2. यह क्षेत्र थैहादोंग में स्थित होगा, और उल्लुंग्दो के साथ-साथ जुकदो और सक्दो (दोक्दो) के सारे जिले उल्दो-गुन (उल्दो क्षेत्र) के अधिकार क्षेत्र में होगा ।
अनुच्छेद 3. उल्लुंग्दो से शुरू 19 कानूनी दस्तावेजों को 504 वीं राष्ट्रीय स्थापना दिवस में दिनांक 16 अगस्त से सरकारी राज में सरकारी कार्यालय के खंड से हटा दिया जाएगा । 505 वीं वर्ष के स्थापना दिवस के शाही फरमान – 36 के अनुच्छेद 5 में “गांगवन प्रांत के 26 शहरों” को “27 शहरों” में बदल दिया जाएगा और उल्दो-गुन में अनह्योप-गुन के अंतर्गत तीन विशेषताओं को जोड़ दिया जाएगा ।
अनुच्छेद 4. पाँचवीं स्तर के शहरों के लिए बजट का आवंटन किया जाएगा । चूँकि पहले से निर्धारित आधिकारिक रिक्तियों को अभी भरा जाना है, इसके लिए सबसे पहले बजट का आवंटन किया जाएगा ।
अनुच्छेद 5. इस द्वीप के विकास के अनुरूप वर्तमान में अनुपस्थित प्रावधानों को बाद में शामिल किया जाएगा ।
नियमानुसार
अनुच्छेद 6. यह फरमान घोषणा के दिन से ही लागू माना जाएगा ।

ग्वाँगमू के चौथा वर्ष (अक्टूबर 25, 1900)

यी गोन-हा, अस्थायी कार्यकारी राज्य परिषद् प्रधानमंत्री और छानजोंग, आतंरिक मामलों के मंत्री

〔मूल लेख〕

Original Text