dokdo

दोक्दो के बारे में हमारा मौलिक दृष्टिकोण

Dokdo, Beautiful Island of Korea

सरकार का बयान

home > दोक्दो के ऊपर कोरिया की स्थति > सरकार का बयान

print facebook twitter Pin it Post to Tumblr

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता और जनसंपर्क के उपमंत्री जापान के द्वारा प्राथमिक विद्यालय के पाठ्य पुस्तक की स्वीकृति पर विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता के बयान (४ अप्रैल २०१४)

1. कोरियाई गणराज्य इस बात की घोर निंदा करता है कि जापान सरकार ने उच्य विद्यालय (हाई स्कूल) और मध्य विद्यालय (मिडिल स्कूल) टेक्स्ट बुक के लिए परिवर्तित टीचिंग मैन्युअल के प्रतिपादन (२८ जनवरी ) का अनुशरण करते हुए आज ४ अप्रैल को प्राथमिक विद्यालय (एलीमेंट्री स्कूल) के टेक्स्टबुक को प्रतिपादित कर दिया l २०१० के टेक्स्टबुक की तुलना में इस टेक्स्टबुक में  दोक्दो के ऊपर ज्यादा उतेजना भरी बातें कही गयी है l

    

2. सिर्फ तीन हफ्ते पहले जापान के संसद भवन में जापान के प्रधानमंत्री  शिंजो अबे ने घोषित  किया कि उनकी सरकार पिछले सरकार के ऐतिहासिक नज़रिए को आत्मसात करेगी/अपनायेगी l इस  घोषणा के बावजूद जापानी सरकार को ये ध्यान रखना चाहिए की क्या उसे अपने देश के प्राथमिक  विद्यालय के बच्चों को जापान के साम्राज्यवादी आक्रामकता के इतिहास के तोड़े मरोड़े हुए और पर्दा डाले  हुए रूप को पढ़ाना चाहिए ? इस तरह जापान सिर्फ अपने वादे को तोड़ने की हीं गलती नहीं कर रहा है बल्कि अपने आने वाली पीढ़ी को अंतराष्ट्रीय समुदाय से अलग-थलग भी कर रहा है l

 

3. कोरिया गणराज्य की सरकार साफ तौर से यह चेतावनी देती है कि यदि जापानी सरकार अपने विद्यालय के टेक्स्टबुक स्वीकार्यता के माध्यम से दोक्दो के ऊपर उकसाने की प्रवृति को जारी रखा तो दोनों देशों के संबंधों में कोई भी प्रगति देखना बहुत दूर की बात होगी l

सूचि